बाबा-हरभजन-सिंघ जैसे 3 short ghost stories पढ़े

Haunted house |short ghost stories।बाबा हरभजन सिंघ

दोस्तो क्या सच मे पैरनोर्मल शक्ति होते है? ओर होते है तो क्या आपने महसुस किया है। आज हम आपको ऐसे ही कुछ कहनियो को बाताने जा रहा हु। कई बार हमे कुछ दिखता नही है। पर महसुस होते है। आज हम ऐसे ही short ghost stories को बताउगा साथ ही उसके पिछे का रहस्य भी तो शुरु करते है।

बाबा हरभजन सिंघ एक सच्चा देशभक्त
short ghost stories।बाबा हरभजन सिंघ

1)short ghost stories ये कहनी एक सच्चे देशभक्त कि है। जो मर कर भी देश का सेवा करना नही छोड़ते है। आज हम आपको ऐसे सच्चे देशभक्त की कहनी बता रहा हू

बाबा हरभजन सिंघ का जन्म पंजाब के गुड़ावाला जिला  मे हुआ था। जो आज पाकिस्तान मे आता है। ३० अग्स्त 1946 मे जन्मे बाबा हरभजन सिंघ जो 2bcb 1966 मे पंजाब रेजमेंत के जवान थे। अपने सेवा काल जो की 2 साल तक ही रहा। सन 1968 मे सिक्किम मे उनकि एक हादसे मे मौत हो गया । खच्चर पर सवार हो कर नदि को पार कर रहे थे। उसी समय तेज बवाह के कारन वो नदी मे वह गये। वो वह कर बहोत दुर जा चुके थे ।  जिस वजह से जवानो को  बहुत ढुंढने पर वो भी वे  नही मिले।

कुछ दिनो के बाद वो एक जवान के सपने मे आ कर उन्होने अपने सव का पता बताये। जब वहा पर देखा गया तो सही मे वहा पर उनका सव पाया गया। सेनिको को आश्चर्य हुआ की ये कैसे हो सक्ता है। पर ये सच मे हुआ था।

बाबा के मरने के बाद का कार्य:

  • सिक्किम मे जब भी चिनि सेना कोइ हमला या कोइ तर्किव  बनाते तो  बाबा भार्तिय सेना के सपने मे आ कर उनका ठीकाना ओर बातो को बाता देते थे।
  • जब कोइ सेनिक रात मे झपकि लेता तो उसे बाबा जोड़ का चाटा लगाते थे। ऐसा दावा सेनिक करते है।
  • भार्तिय सेना जब भी कोइ मिटिंग रख्ते थे तो एक कुर्सी बाबा के लिये भी खाली रखते थे। तकी बाबा उस मिटिंग सामिल हो सके।
  • बाबा को हर साल 2 महिने का छुट्टि दिया जाता था जो की 2 सेनिक के साथ उनका सामन लेकर उनके गाव जाते थे ओर 2 महिने बाद वेसे ही 2 सेनिक के साथ वापस आते थे।
  • सेना ने उनका ये भक्ती देख कर बाबा के नाम पर मंदिर का निर्मान किया जो कि कंगोटक के जिले फुल्लाद्रे नाथुलाद्रे के बिच 13000 हाजार के फिट पर स्थित है। पुराना बंकर वाला मंदिर इससे एक हजार फिट उचाई पर है
  • बाबा के मंदिर का सारा कार्य सेना के अंदर मे आता है, जब बाबा के उपर आरोप लगाया गया की ये सब एक अंधविश्वस है। ऐसा  कुछ लोगो के कहने पर उनका छुट्टी बंद हो गया।

ऐसे थे भारत के एक वीर पुत्र बाबा हरभजन सिंघ

कुलधरा

2)short ghost stories(short ghost stories।बाबा हरभजन सिंघ)

कुलधरा जो राजस्थान के जैसलमेर जिले से 18 किलोमिटर दुर आया हुआ है। 170 साल से विरान ये गाव के पिछे का आखिर क्या सच है। क्या सच मे वो एक पैरानोमिक शक्तिया का बसेरा  है।

कुछ लोगो का कहना है की ये गाव पर श्राप का आसर है। बात 1291 के आसपास की है। जब वहा के पालिवालो के हाथ मे गाव रहते थे।वहा पर  एक ऐसे पालिवाल जो बहुत ही क्रुर था। एक बार जब वो कुलधरा गाव मे गया था। तब उसे एक लड़की पसंद आ गया। पर उस गाव वालो को ये बिलकुल सही नही लगा।

पालिवाल नही माना ओर उसने उन गाव वालो पर अत्याचार करने लगा। ओर उसने धमकी दे दिया कि अगर उसने सादी नही करेंगे तो पुरे गाव वासियो को मार देंगे। उसी रात उन गाव वालो ने उस गाव को छोड़ कर चले गये। ओर जाते जाते उस गाव को श्राप दे दिया । 170 साल से वो गाव भुतिया है ऐसा लोगो का कहना है। कहते है की आज भी उन लोगो का आत्मा आज भी भतकता है।

दिन के उजाले मे जितना देखने लायक इतिहास है। उतना ही रात के अंधेरे मे डरावना है। जो भी लोग रात को वहा से गुजरते है। उनका किसी तरह से दुर्घतना हो जाता है। इस बात मे कितना सच है ये हम नही कह सक्ते है। कुछ का कहना है की ये गाव पानी के समस्या के कारन खाली किया गया था। पर सवाल ये भी उठता है की पुरा गाव एक साथ ही क्यो  खाली हो गया।

Boys hostel

3)short ghost stories(short ghost stories।बाबा हरभजन सिंघ)

सन 2005 कि ये कहानी तीन दोस्तो की है। जो राजस्थान के उदयपुर जिले का है। वहा पर एक होस्टल मे रहते थे। जिस मे से राहुल नाम का लड़का जो भुतो से बहोत डरता था साथ ही उस्के दोस्त रमेश ओर विकाश रहते थे उसके साथ तिनो एक साथ ही एक कमरे मे रहते थे। हर साल के तरह जब गर्मी के छुट्टी हुइ तो सब लोग अपने अपने घर जाने लगे। शाम का वक्त था। राहुल का दोस्त विकाश कुछ सामन लाने बाजर जाता है। उसे आते वक्त काफी लेत हो जाता है।

राहुल छत के उपर था। तभी गेत अवाज करता है। वो दरवजा खोलता है तो विकाश होता है। राहुल बोलता है इतना लेत क्यो हो गया तुझे विकास कुछ नही बोलता है। विकाश सिधे छत पर चाला जाता है। राहुल भी उस्के साथ छत पर जाता है। राहुल के पुछ्ने पर बताता है। वो दोनो दोस्त रात भर छत पर बाते करते है। जब सुभह के 6 बजता है। तब विकाश राहुल को गले लगा लेता है। फिर कुछ देर बाद रमेश का फोन आता है। राहुल जो ओर बताता है।

विकाश का एक्सिदेंट हो गया ओर वो मर गया। ये सुन कर राहुल गुस्से से उस्के उपर चिल्लाता है। ओर जेसे ही वो पिछे कि तरह मुड़ता है तो विकाश वहा नही होता है। जब वो हर जगह देखता है तो वो सच मे नही होता है। जब कुछ देर बाद विकाश का लाश आता है। राहुल पुरे तरह आश्चर्य हो जाता है। की ये कैसे हो सकता है रात भर तो ये मेरे साथ था।

कहते है न दोस्त दोस्त होता है। जो मर कर भी एक बार जरुर मिलने आता है। ऐसा ही कुछ राहुल के साथ भी हुआ था।

ऐसे हि हमने पहले भी एक भुतो के उपर blog बनाया है यहा click करे.

दोस्तो आपको कैसा लगा बाबा हरभजन सिंघ का देशभक्ति के बारे मे पढ कर आप comments  मे बताये। साथ ही बकी के short ghost stories (short ghost stories।बाबा हरभजन सिंघ)

कैसे लगे ये भी बताये।

Leave a Comment

Translate »
Share via
Copy link
Powered by Social Snap